जनधन योजना के खाते में अचानक से आ रहे हैं , इतने रुपए ।

जनधन योजना के खाते में अचानक से आ रहे हैं,इतने रुपए ।

जनधन योजना के खाते में पिछले 1 हफ्ते से अचानक रुपए आने से काफी बातें बन रहे हैं और लग रहा है फिर से लोगों के खाते में 15 लाख रुपए आएंगे ।

चुनाव जैसे नजदीक आ रहा है यह चर्चा तेजी से बढ़ती जा रही है के लोगों के खाते में कुछ रुपए आने शुरू हो गए हैं बात तो यह सच है लेकिन इसका कारण अब तक पता नहीं चला है ।
रुद्रपुर के क्षेत्र के कुछ लोगों के खाते में दो से पाँच हजार रुपए आए हैं, मगर किसी को पता नहीं ।
फिलहाल तो लोग इस चिंता में है कि वह इस पैसे का उपयोग करें या फिर नहीं । इससे अफवाहों को बहुत ज्यादा बल मिल रहा है कि मोदी सरकार 15 लाख जनधन के खाते में छोटे-छोटे किस्तों में भेजेगी ।

मोदी सरकार ने अपनी शुरुआत में बताया था कि वह कालेधन में से आम भारतीय नागरिक जिनका जनधन का खाता है , के खाते में 15 लाख रुपए देगी । लेकिन बाद में इसे चुनावी जुमला कहकर लोगों ने भुला दिया , लेकिन 2019 का चुनाव सर पर है और फिर से एक बार लोगों के जनधन के खाते में रुपए आने शुरू हो गए हैं ।

इन लोगों को मिले हैं इतने इतने पैसे ।

बता देते हैं कि बरडीहा दल के संतोष मौर्य का पीएनबी माझगांव बैंक में अकाउंट है । उन्होंने यह भी बताया कि 4 दिन पहले उनके खाते में 1968 रुपया आया है । बकरी बाजार के रामाश्रय वर्मा और धीरेंद्र के खाते में ₹3000 और ₹2000 आ चुके हैं । उन्होंने पैसे आने के संबंध में बैंक कर्मियों से बात तो की स्पष्ट नहीं हो सका पैसे कहां से आए हैं और किस प्रकार के आए । कुछ लोगों ने तो पैसे निकालकर उसका उपयोग भी कर लिया और बैंक से संपर्क भी नहीं कर रहे हैं कहीं उन्हें पैसा लौटाना ना पड़े । और बात तो यह है कि जितने भी खाते में पैसे आए हैं सभी खाते जनधन योजना के खाते थे ।

केंद्रीय मंत्री के बयान के बाद और ज्यादा तेज हो गई चर्चा

हाल ही में केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने एक बयान में कहा था कि जनधन के खाते में 15 लाख रुपए धीरे धीरे पहुंचेंगे । रिजर्व बैंक से पैसा ना मिलने के कारण बहुत सारी दिक्कतें आ रही है , किसी बयान के बाद अचानक से खाते में पैसे आना वाकई में चर्चा का विषय बनता है ।

खाते में रुपए ट्रेजेडी निधि भंडार देवरिया की ओर से जा रहे हैं, यह बताना अभी संभव नहीं है लेकिन 3 दर्जन से अधिक लोगों के खाते में ₹2000 से ₹5000 एक सप्ताह के भीतर भेजे जा चुके हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *